गुरूपूर्णिमा के सुअवसर पर सतपुड़ा जनजागृति विकास समिति ने पंचवटी एवं त्रिवेणी के वृक्ष लगाये

आज गुरूपूर्णिमा पर्व पर सतपुड़ा जनजागृति विकास समिति के सदस्यों द्वारा त्रिवेणी नीम ,पीपल ,बरगद के वृक्षों का रोपण एवं पंचवटी के पांच वृक्ष पीपल,बरगद , बेल,आंवला एवं सीता ,अशोक वृक्ष सोनपुर रोड़ रेल्वे लाईन के पास लगाकर वृक्षों के महत्व तथा पंचवटी के पौधों का विधिवत रोपण कर राष्ट्रीय राजपूत संगठन के आव्हान पर किया गया। पूर्व दिशा में पीपल ,पश्चिम दिशा में बरगद ,उत्तर दिशा में बेल,दक्षिण दिशा में आंवला एवं पूर्व व दक्षिण में आग्नेय दिशा में सीता अशोक का वृक्ष लगाया गया। सभी वृक्ष धार्मिक आस्था एवं आॅक्सीजन उत्पन्न करने वाले बहुवर्षीय हैं। जिन्हें लगाकर पर्यावरण का संदेश दिया गया आग्रह किया गया शासकीय संस्थाओं में पंचायत भवनों के कैम्पस में एवं पड़ती भूमि पर त्रिवेणी वृक्ष ,जिनमें ब्रम्हा ,विष्णु ,महेश का वास हैं रोपण किया जावें एवं पंचवटी के बहुउपयोगी ,बहुवर्षीय छायादार ,फलदार एवं धार्मिक आस्था के पांचों पौधे लगाये जावें। पूर्व में पश्चिम दक्षिण में उत्तर की पौधों की दूरी 10 -10 मीटर एवं पूर्व व दक्षिण के मध्य आग्नेय दिशा की दूरी 5 मीटर पर उक्त पौधों का पंचवटी में रोपण किया जावें ,जिससे भविष्य में बीच में बैठने हेतु सुन्दर चबूतरा एवं शोभादार पौधे भी लगाये जा सकें। इस अवसर पर संस्था के अध्यक्ष गुंजन शुक्ला ,मोहन साहू ,श्रीचंद चैरिया ,महेन्द्र यादव ,भगत सिंह ने एक -एक  पौधा लगाकर पौधों का संरक्षण संकल्प लिया आव्हान किया कि जिले एवं प्रदेश में  अधिक से अधिक त्रिवेणी एवं पंचवटी के बहुउपयोगी धार्मिक पौधों का रोपण किया जावें। वृक्षमित्र रवीन्द्र सिंह समाजसेवी द्वारा वृक्षों के लगाने एवं उनके उपयोगिता के बारे में जानकारी दी ।