चैन में केवल कुंदा सोने का था, बाकी पूरा नकली और बैंक ने दे दिया लोन

CCN/कॉर्नसिटी

सौंसर के आईसीआईसीआई बैंक में नकली चेन रखकर 1 लाख 12 हजार रुपए का लोन लेने वाले तीन लोग पुलिस के हत्थे चढ़े हैं।

छिंदवाड़ा:- सौंसर के आईसीआईसीआई बैंक में नकली चेन रखकर 1 लाख 12 हजार रुपए का लोन लेने वाले तीन लोग पुलिस के हत्थे चढ़े हैं। धोखाधड़ी सहित अन्य धारा में प्रकरण दर्ज कर शेष आरोपियों की तलाश जारी है। बताया जा रहा है कि आरोपियों के कब्जे से पुलिस ने एक कार भी जब्त की है।

सौंसर थाना के टीआइ आर.आर दुबे ने बताया कि ग्राम बुढैना निवासी देवाजी वरकड़े 31 अगस्त को एक सोने की चैन आईसीआईसीआई बैंक में रखकर उस पर 1 लाख 12 हजार रुपए का लोन लेकर गए थे। कराड़े का आधार कार्ड बैंक में जमा कराया गया था। सोने की चैन के कुंदे की जांच करने पर वह सोने का पाया गया था। ग्राम बुढैना के दो लोग 2 सितम्बर को बैंक में चार सोने की चूड़ी देकर लोन लेने के लिए पहुंचे तो बैंक के अधिकारी ने कहा गोल्ड वैल्युयर से जांच कराने की बात कही तो उन्होंने कहा की जल्द ही आप वजन कर सीधे पैसे दे दो।

मना करने पर वे लोग नाराज होकर बैंक के बाहर चले गए। बैंक के अधिकारियों और कर्मचारियों को शक हुआ कि ग्राम बुढैना से ही लोग क्यों आ रहे हैं, पहले रखी चैन की जांच करने पर सामने आया कि वह नकली है और केवल कुंदा असली है। बैंक की एक टीम 3 सितम्बर का ग्राम बुढैना में देवाजी कराड़े के पास पहुंची और उससे कहा कि वह बैंक के पैसे लौटा दें, क्योंकि उसने जो चैन बैंक में रखी है वह नकली है। देवाजी कराड़े ने बैंक की टीम को बताया कि वह चैन कन्हैया डेहरिया ने उसे यह कहकर दी थी कि उस पर बैंक का लोन है और चैन गिरवी रखने के बाद उसे बैंक पैसे नहीं देगा। कन्हैया डेहरिया के साथ अमन गुप्ता, कुनाल खरे सहित अन्य लोग थे। कन्हैया डेहरिया, अमन गुप्ता, कुनाल खरे सहित अन्य ने देवाजी कराड़े और बैंक के साथ धोखाधड़ी कर राशि हड़प ली। आरोपी छिंदवाड़ा के बताए जा रहे हैं।