नगर निगम छिन्दवाड़ा: डेढ़ साल बाद चली अपनी बस

किफ़ायती आवास तक चलाई गई बस का किराया किफ़ायती नहीं, डेढ़ साल बाद चली सोनपुर से अपनी बस, ऑटो चालक वसूल रहे मनमाना किराया

 

छिंदवाड़ा। किफायती आवास के नाम से प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत शहर से करीब सात किमी दूर पहाड़ी पर मध्यवर्गीय व निम्न मध्यमवर्गीय शहरियों को बसा दिया गया। उनके आवागमन के लिए अमृत योजना के अंतर्गत चलाई गई बस को भी निर्धारित कर दिया गया। लेकिन बस कुछ महीने चली और कोरोना की पहली लहर के शुरू होते बंद हुई तो अब डेढ़ वर्ष बाद चालू हुई है। लेकिन वर्तमान में किराया दस से बढ़ाकर 15 रुपए कर दिया गया।
कलेक्टर सौरव सुमन एवं निगम आयुक्त हिमंाशु सिंह की रुचि लेने के बाद पोआमा, सोनपुर कबाडिय़ा रूट की बस तो शुरू कर दी गई, लेकिन इसका किराया लॉकडाउन के संकट को झेल रहे सोनपुर वासियों की जेब पर भारी पड़ रहा है। हालांकि बस चलने से लोगों को कुछ राहत तो मिली। इसके पूर्व तक सोनपुर रहवासियों को ऑटो संचालकों की मनमानी ही सहनी पड़ती थी।

मार्च 2020 तक 10 रुपए किराया
अपनी बस चलने के बाद ऑटो का किराया दस रुपए हो गया था। बसों में सिर्फ विद्यार्थी शहर के लिए आवागमन करते थे। ऑटो एवं बस दोनों का ही किराया दस रुपए होने के कारण किफायती रहा। लॉकडाउन के बाद बस बंद रही, लेकिन ऑटो संचालकों ने डिस्टेंसिंग के नाम पर किराया 20 रुपए कर दिया जो डिस्टेंसिंग को दरकिनार करने के बाद भी बरकरार है। उल्लेखनीय है कि यहां संचालित होने वाले आधे ऑटो संचालकों को आरटीओ से अनुमति भी नहीं है।