नदी में फेंकी मरी मुर्गियों से संक्रमण का खतरा

CCN/कॉर्नसिटी

मटियाडोल नदी में करीब 300 मृत मुर्गियों को फेंकने की घटना से लोगों में रोष व्याप्त है। नदी का पानी सारोठ जलाशय में जाता है। पानी के साथ मृत मुर्गियां भी जलाशय में पहुंच गई। सारोठ जलाशय से कई गांवों को पीने के पानी की आपूर्ति की जाती है। मृत मुर्गियों की वजह से पानी के संक्रमित होने का खतरा है।

छिन्दवाड़ा/मोहखेड़ :- मटियाडोल नदी में करीब 300 मृत मुर्गियों को फेंकने की घटना से लोगों में रोष व्याप्त है। नदी का पानी सारोठ जलाशय में जाता है। पानी के साथ मृत मुर्गियां भी जलाशय में पहुंच गई। सारोठ जलाशय से कई गांवों को पीने के पानी की आपूर्ति की जाती है। मृत मुर्गियों की वजह से पानी के संक्रमित होने का खतरा है। इलाके में पहले ही मौसमी बीमारियों से कई लोग पीडि़त है। डेंगूृ मलेरिया का खतरा बरकरार है। कोरोना टला नहीं है। ऊपर से पानी के संक्र मित होने के डर से लोगों में चिन्ता व्याप्त है। मामले की शिकायत ग्राम पंचायत गुबरेल के सरपंच पति कमलेश विश्वकर्मा ने सावरी चौकी पुलिस में की है।

रामकिशोर (गाकरे) पवार की रिपोर्ट..