मध्यप्रदेश का एक छोटा सा जिला छिंदवाड़ा ,के ए डी साहू मॉडलिंग इडंस्ट्री में दिखा रहे अपनी प्रतिभा

 

 

ccn/डेस्क

मॉडल बनना और मॉडलिंग करना कौन नही चाहता ग्लैमर वर्ल्ड में मॉडलिंग का एक अलग रुतवा है। जहाँ हर एक व्यक्ति इस इंडस्ट्री में अपना नाम बनाना चाहता है बहुत कम ही लोग जो इसमे अपना नाम बना पाते है देश के अलग अलग जगहों से लोग मुम्बई दिल्ली जैसे शहरों में मॉडलिंग के सपने लेकर पहुँचते है ऐसे में मध्यप्रदेश के छोटे से जिले छिंदवाड़ा के एड़ी साहू की कहानी काफी दिलचस्प है पत्रकारिता करते हुए जब उन्हें सोशल मीडिया के माध्यम से मॉडलिंग का प्रस्ताव मिला उन्होंने स्वीकार करने में देर नही की।

             ट्रडिशनल वियर का मॉडलिंग प्रोजेक्ट जो मुंबई के अंधेरी वेस्ट में शूट हुआ।
उसके बाद भी कई प्रोजेक्ट भी उनके पास आये पर किन्ही वजहों से उसमें बात नही बनी। दिल्ली के एक ग्रुमिंग स्कूल जो मॉडलों और एडवरटाइजिंग कंपनियों के मध्य कोडिनेट करता है उनके द्वारा भी संपर्क किया उन्हें वह प्रोजेक्ट पसन्द नही थे। मॉडलिंग में स्कोप के बारे में जानकारी देते बताया  ,मॉडलों के लिए एक दमदार मार्केट उपलब्ध है। मॉडल अनेक तरह के उत्पादों को पहन कर या खुद को किसी प्रोडक्ट से जोड़ कर लोगों के सामने खुद को प्रदर्शित करते हैं। अमूमन कंपनियां इन मॉडलों के जरिए ही अपना उत्पाद बाजारों में परोसती हैं। उन्हें लगता है, जो मॉडल जितना अट्रैक्टिव और बड़ा होगा, उसका उत्पाद भी उतना ही बिकेगा। यूं कहें कि आज मॉडल्स के लिए असीमित आसमां है, जिसमें वे पंख फैलाये स्वछंद उड़ानें भर सकते हैं। यदि किसी व्यक्ति को मॉडलिंग में अपना कैरियर बनाना है तो उन्हें अपनी केयर करनी होगी जैसे हेयर कट, वेट लॉस, स्किन ट्रीटमेंट, डेंटल वर्क्स आदि इन सब बातों के बाद एक अच्छी मॉडलिंग एजेंसी से आपका संपर्क होना चाहिए क्योंकि बहुत से लोग इस प्रोफेशन में गुमराह करते है। इन सब के अतिरिक्त पोर्टफोलियो, पोलोराइड की, क्योंकि पोर्टफोलियो के आधार पर मॉडलिंग एजेंसी, विज्ञापन एजेंसी, फैशन डिजाइनर मॉडल का चयन करते हैं। इसलिए पोर्टफोलियो हमेशा अनुभवी फोटोग्राफर से ही करवाये। एड़ी साहू मॉडलिंग में केरियर एक जुनूनी व्यक्ति ही बना सकता है मॉडलिग इंडस्टी में काम है बहुत पर मिलना भी उतना ही मुश्किल है। यदि आप यहाँ नए हो तो बहुत मेहनत लगेगी नाम बनाने पर।