मैंने सौदेबाजी नहीं की वरना अभी भी सीएम रहता– कमल नाथ

By-Elections In Mp : रैगांव विधानसभा सीट के सिंहपुर में पूर्व मुख्‍यमंत्री कमल नाथ ने कहा कि मैंने काम किया है सौदेबाजी नहीं।

CCN/ डेस्क

मध्यप्रदेश /सतना,/ सतना जिले की रैगांव विधानसभा सीट के उप चुनाव के लिए आज सिंहपुर में चुनावी सभा को पूर्व मुख्यमंत्री एवं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने कांग्रेस प्रत्याशी कल्पना वर्मा के समर्थन में संबोधित किया। उन्होंने सभा में अपने भाषण के दौरान कहा 15 साल सिर्फ शिवराज सिंह की घोषणाओं का विकास हुआ है। उप चुनाव से सरकारें बनती बिगड़ती नहीं। लेकिन आपको ये बताना होगा कि रैगांव की जनता सीधी भोली है लेकिन बेवकूफ़ नहीं। उन्होंने यहां यह तक कह दिया कि ऐसा कोई देश नहीं जहां इतनी भाषाएं, देवी देवता हैं। ये देश की विविधता है। आंबेडकर ने संविधान ये सोच कर नहीं बनाया था कि राजनीति में सौदेबाजी आ जाएगी, सरकारें सौदे से बन जाएंगी। मैंने सिर्फ एक गलती की वो ये कि सौदा नहीं किया वरना मैं सीएम रहता। मैं नहीं चाहता कि मध्‍य प्रदेश में सौदे की राजनीति का प्रवेश हो।

हमने किसानों का कर्ज माफ किया : पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा कि जब हमने शपथ ली थी तब मध्‍य प्रदेश महिला अत्याचार, भ्रष्टाचार, बेरोजगारी, आत्महत्या में नंबर वन था। बहुत चुनौतियां थी, ऐसा मध्‍य प्रदेश हमें भाजपा से मिला था। हमारे मध्‍य प्रदेश की व्यवस्था कृषि पर केंद्रित है, प्रगति तभी जब किसान के जेब मे पैसा हो। हमने कर्ज माफ किया 45 हजार का सतना में 27 लाख का प्रदेश में कर्ज माफ किया। हम कृषि क्षेत्र में नई क्रांति लाना चाहते थे, हमने शुरुआत की थी। उन्होंने कहा कि जवान बिना काम के व्यापारी बिना व्यापार के थक गया है तो फिर शिवराज सिंह आप किस काम के। बुजुर्गों नौजवानों की दुनिया कुछ और है। नौजवान में हाथों में काम होने की तड़प है। रोजगार मंदिर मस्जिद जाकर नहीं आएगा। निवेश से आएगा और वो तभी होगा जब मप्र पर लोगों को विश्वास होगा। उन्होंने कहा कि मप्र पांच राज्यों से घिरा है, देश का हृदय है लेकिन यहां कोई निवेश करने नहीं आता। मप्र की पहचान माफिया और मिलावट से नहीं होनी चाहिए इसलिए हमने शुद्ध का युद्ध शुरू किया था।

शिवराज बहुत बड़े कलाकार : कमल नाथ ने मुख्यमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा कि शिवराज कहते हैं एक लाख को रोजगार देंगे, मैं कहता हूं दस को दिलाकर दिखा दो। शिवराज में बहुत कलाकारी है। उनकी कलाकारी से प्रदेश थक गया है। मुझसे 15 माह का हिसाब मांगते हैं, मैं तैयार हूं। आइये सामने खड़े होइए। उन्होंने कहा कि मैंने घोषणा नहीं की लेकिन सौ रुपये बिजली बिल किया, पेंशन बढ़ाई, विवाह योजना बढ़ाई। मेरा मानना है कि घोषणा करना आसान है, मैं काम करना चाहता था, मुझे मौका नहीं मिला।