विश्व रिकॉर्डधारी डॉ अरुण अज्ञानी 2 अप्रैल को आएंगे छिन्दवाडा।

निशान काव्य महोत्सव 2022 के अखिल भारतीय कवि सम्मेलन में करेंगे शिरकत।
डेस्क न्यूज़ 
विश्व की सबसे बड़ी श्रीरामचरित मानस लिखकर अब तक चार विश्व रिकॉर्ड बुक में अपना नाम दर्ज करा चुके छिन्दवाडा निवासी प्रोफसर डॉ अरुण अज्ञानी 2 अप्रैल को एक अखिल भारतीय कवि सम्मेलन में शिरकत करने छिन्दवाडा आ रहे हैं। माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय भोपाल में विशेष अधिकारी एवं प्रोफेसर डॉ अरुण खोबरे “अज्ञानी” एक कवि और गीतकार भी हैं। निशान जानो जी के मेला ग्राउंड में स्व श्री लखनलाल नागवंशी जी की स्मृति में निशान काव्य महोत्सव 2022 का आयोजन किया जा रहा है जिसमें डॉ अज्ञानी शामिल होंगे।

श्री अज्ञानी छिन्दवाडा जिले के एक छोटे से गांव बदनूर के रहने वाले हैं। डॉ खोबरे ने मध्यप्रदेश के विश्वविद्यालय डॉ हरीसिंह गौर विश्वविद्यालय सागर, बरकतुल्लाह विश्वविद्यालय भोपाल, देवी अहिल्या विश्वविद्यालय इन्दौर, माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय भोपाल से तीन विषयों में एमए, एम फिल, पीएचडी की।उपाधियाँ प्राप्त की है। आपने विश्वविद्यालय अनुदान आयोग दिल्ली से यू जी सी नेट भी क़्वालीफाई किया है। डॉ अज्ञानी इससे पहले अटल बिहारी वाजपेयी हिंदी विश्वविद्यालय में परीक्षा नियंत्रक और पत्रकारिता और शिक्षा विभाग के विभागाध्यक्ष भी रह चुके हैं।